हनुमान चालीसा


हनुमान चालीसा के बारे में -


आज हम हनुमान चालीसा के पाठ के बारे में जानेगें ! मनुष्य को अपने नित्य कर्म करते हुये  हनुमान चालीसा का पाठ रोजाना सुबह -सुबह करना चाहिए !  यह मनुष्य के लिए जीवन में उपयोगी होगा !  और स्वास्थय को भी लाभ होता है ! जैसे  कोई व्यक्ति यह हनुमान चालीसा का पाठ रोजाना सुबह -सुबह करता है उसको भगवान की भक्ति तो मिलती ही है ! और उसको सुबह के  समय रोजाना जल्दी ही उठकर और अपने नित्य कर्म करते हुये वह सब कार्य को सही समय पर करता है सही समय पर ही स्नान करता है यह उसके लिए एक स्वास्थ्यवर्धक रहता है !

SHARMAPLUS SEO, RAMESH KUMAR

और हनुमान चालीसा का तो शनिवार और मंगलवार का तो विशेष महत्व होता है इस दिन तो लोग हनुमान जी के मंदिर में दो बार सुबह -शाम  जाकर वहाँ हनुमान जी की भक्ति में लीन रहते है ! और वहाँ अपनी मनो कामना हनुमान जी महाराज के सामने रखते हुये ! हनुमान चालीसा का नियमित रूप से करते रहते है ! और यही हनुमान चालीसा का पाठ ही पार लगा देने वाला है ! हनुमान चालीसा लाल रंग से लिखे शब्द से अच्छा माना जाता है ! क्योकि हनुमान जी महाराज को लाल रंग अच्छा लगता है !

                                    दोहा -

 श्री  गुरु  चरन सरोज रज  निज मनु मुकुरु सुधारि  !
 बर नउँ रघु  बर  बिमल जसु  जो दायकु फल चरि  !!



बुद्धिहिन   तनु   जानिके    सुमिरौ    पवन  - कुमार !
बल   बुद्धि   बिधा  देहु  मोहिं   हरहु  कलेस  बिकार !!


                        चौपाई -
जय      हनुमान   ज्ञान    गुन   सागर  !
जय     कपीस   तिहूँ    लोक   उजागर  !!


राम    दूत    अतु  लित    बल    धामा !
अंजनि   -  पुत्र    पवन     सूत   नामा  !!

महाबीर            बिक्रम        बजरंगी !
कुमति       निवार     सुमति   के  संगी !!

कंचन         बरन     बिराज     सुबेसा !
कानन       कुंडल      कुंचित      केसा !!

हाथ      बज्र    औ    ध्वजा    बिराजौ  !
काँधे        मूँज       जनेऊ       साजे !!

संकर      सुवन     केसरी        नंदन  !
तेज      प्रताप      महा    जग  बंदन  !!

जय      हनुमान   ज्ञान    गुन   सागर  !
जय     कपीस     तिहूँ    लोक  उजागर  !!

राम    दूत    अतु  लित    बल    धामा !
अंजनि   -  पुत्र    पवन    सूत   नामा  !!

महाबीर            बिक्रम        बजरंगी !
कुमति       निवार     सुमति   के  संगी !!

कंचन        बरन      बिराज     सुबेसा !
कानन       कुंडल     कुंचित       केसा !!

हाथ       बज्र    औ    ध्वजा   बिराजौ  !
काँधे        मूँज     जनेऊ         साजे !!

संकर      सुवन     केसरी        नंदन  !
तेज      प्रताप      महा     जग  बंदन  !!

रघुपति      किन्ही        बहुत   बड़ाई  !
तुम     मम  प्रिय   भरतहि   सम   भाई !!

सहस    बदन     तुम्हरो     जस   गावै !
अस     कहि    श्री   पति  कंठ   लगावै !!

सनकादिक       ब्रह्मादिक        मुनीसा !
नारद       सारद      सहित     अहीसा !!

जम     कुबेर     दिगपाल    जहाँ    ते !
कबि     कोबिद    कहि   सके  कहाँ  ते !!

तुम      उपकार    सुग्रीवहिं      कीन्हा !
राम      मिलाय    राज   पद   दीन्हा  !!

तुम्हारे     मंत्र      विभीषन     माना  !
लंकेस्वर    भये     सब    जग   जाना !!

जुग    सहस्त्र     जोजन    पर   भानू  !
लील्यो      ताहि      मधुर  फल  जानू !!

प्रभु    मुद्रिका   मेली     मुख    माहीं !
जलधि    लाँघि   गये   अचरज    नाहीं !!

दुर्गम    काज     जगत    के     जेते !
सुगम     अनुग्रह      तुम्हरे      तेते !!

राम    दुआरे       तुम       रखवारे  !
होत     न    आज्ञा    बिनु    पैसार  !!

सब    सुख    लहे   तुम्हारी    सरना !
तुम    रच्छक   काहू   को   डर   ना !!

आपन     तेज     सम्हारो       आपै !
तीनों      लोक     हाँक    ते   काँपे !!

भूत     पिसाच   निकट    नहीं   आवे !
महाबीर       जब      नाम   सुनावै  !!

नासै     रोग    हरै     सब     पीरा !
जपत      निरंतर    हनुमत     बीरा !!

संकट    तें      हनुमान       छुड़ावें !
मन    क्रम   बचन   ध्यान  जो लावै !!

सब   पर    राम    तपस्वी     राजा !
तिन  के    काज  सकल  तुम   साजा !!

और   मनोरथ    जो    कोई    लावै  !
सोई     अमित   जीवन   फल  पावै  !!

चारों       जुग   परताप    तुम्हारा  !
है     परसिध्द    जगत     उजियारा !!

साधु   संत    के   तुम     रखवारे  !
असुर    निकंदन    राम     दुलारे   !!

अष्ट  सिध्दि  नौ   निधि  के   दाता !
अस   बर    दीन   जानकी    माता !!

राम   रसायन      तुम्हारे     पासा !
सदा    रहो   रघुपति    के    दासा !!

तुम्हारे   भजन   राम    को    पावै !
जनम  जनम   के    दुःख  बिसरावै !!

अंत  काल    रघु  बर    पुर   जाई !
जहाँ  जनम   हरि  -  भक्त   कहाई !!

और  देवता    चित्त    न     धरई !
हनुमत  सेई  सर्ब    सुख      करई !!

संकट   कटे    मिटे   सब    पीरा  !
जो    सुमिरौ  हनुमत    बल   बीरा !!

जै    जै    जै  हनुमान     गोसाईं !
कृपा    करहु    गुरु   देव   नाईं   !!

जो   सत    बार  पाठ   कर   कोई !
छूटहि    बंदी    महा   सुख   होई  !!

जो   यह   पढ़ें   हनुमान   चालीसा !
होय   सिध्दि   साखी      गौरीसा  !!

तुलसी    दास    सदा   हरि   चेरा !
कीजै   नाथ   ह्रदय     महँ   डेरा  !!

                         दोहा - 

पवन  तनय  संकट   हरन  मंगल  मूरति  रूप !
राम लखन सीता  सहित  हृदय  बसहु  सुर  भूप !!

हनुमान चालीसा का पाठ करते समये निचे वाला दोहा है ! उसके आगे इस प्रकार से पढ़ सकते है !
 सिया वर रामचन्द्र हरि ॐ जय सरणंम मंगल भवन अमंगल हारी  द्रवहु सो दसरथ अजिर बिहारी !!


Share this

Related Posts

First

Please Comment if you like the Post EmoticonEmoticon