नव रात्रा का आठवां दिन महा गौरी - sharmaplus

Breaking

is web site se pandito ke karyo aur dharmik karyo ki puri jankari hindi me milti hai.

Featured Post

नव रात्रा का आठवां दिन महा गौरी



नव रात्रा का आठवां दिन महा गौरी 



nav ratra






महागौरी माता का मंत्र : -


श्वेते   वृषे   सम  रूढा  श्वेताम्बरा  धरा   शुचिः ।

महा    गौरी    शुभं   दद्यान्महादेव    प्रमोददा ।।


या  देवी  सर्व  भू‍तेषु  माँ  गौरी  रूपेण  संस्थिता ।

नमस्तस्यै   नमस्तस्यै   नमस्तस्यै   नमो  नम: ।।


नवरात्रा में माता दुर्गा देवी की उपासना की जाती है !  यह नों  दिन तक चलती है ! माता दुर्गा की आठवीं स्वरूप का नाम है !  "महागौरी"  इस माता का वर्ण पूर्णत: गौर  है ! महागौरी माता की उपमा शंख, चक्र, चन्द्र , और कुंद  के फूल से की गई है !  इनकी आयु आठ वर्ष की मानी गई है ! 'अष्ट वर्षा भावेद गौरी' ! माता महागौरी के समस्त वस्त्र और आभूषण आदि भी सफेद है !  माता महागौरी के चार भुजाएं है !

यह भी पढ़े -

  माता के ऊपर दाहिने हाथ में अभय - मुद्रा में है ! और नीचे का दाहिने हाथ में त्रिशूल है ! तथा ऊपर के बाएं हाथ में डमरू है ! और नीचे की बाएं हाथ वर -  मुद्रा  है ! माता महागौरी की मुद्रा बहुत शांत है ! माता का वाहन वृषभ है !   माता ने पार्वती के रूप में इन्होंने भगवान शिव को पति के रुप में प्राप्त करने के लिए माता ने बड़ी कठोर तपस्या की थी !

माता की प्रतिज्ञा थी ! ' व्रिये अहं  वरदं शम्भुं नान्यं देवं महेश्वरात्' ! गोस्वामी तुलसीदास जी के अनुसार भी इन्होंने भगवान शिव के वर्ण के लिए कठोर संकल्प लिया था ! माता महागौरी ने इतनी कठोर तपस्या की थी ! जिससे उसका सारा शरीर एकदम काला पड़ गया था !  माता की तपस्या से भगवान शिव प्रसन्न हो गए ! जब भगवान शिव ने इसका शरीर को गंगा जी के पवित्र जल से धोया तब वह विधुत  प्रवाह के समान अत्यंत कांतिमान - गौर हो गया ! तभी  से इस माता का नाम महागौरी हुआ था !

यह भी पढ़े -

दुर्गा पूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है !  माता की शक्ति अमोघ  और सध: फलदायिनी है !  माता की उपासना करने से भक्तों के समस्त पाप धुल जाते हैं !  और पूर्व संचित पाप नष्ट हो जाते हैं !  और भविष्य में भी पाप संताप ,दैन्य - दुःख  उसके पास कभी नहीं आते है !  माता की उपासना सभी प्रकार से पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी हो जाते हैं !

महागौरी माता का ध्यान - स्मरण  करना पूजा - आराधना करते रहना भक्त के लिए बहुत कल्याणकारी है !  इसलिए हमेशा माता महागौरी का ध्यान करते रहना चाहिए !  माता की कृपा से अलौकिक सिद्धियों की  प्राप्त होते है !  मन को अनन्य भाव से एकनिष्ठ करके मनुष्य सदैव इनके पदार्विन्दों का ध्यान करना चाहिए !  यह माता अपने भक्तों के कष्ट को अवश्य ही दूर करती हैं !

माता की उपासना करने वाले भक्तों के असंभव कार्य भी संभव हो जाते  है !  इसलिए माता के चरणों की शरण पाने के लिए भक्तों को पूरे प्रयत्न करते रहना चाहिए !  पुराणों में भी माता की महिमा का पूरा आख्यान  किया गया है !वे  मनुष्य की वृतियों  को सत् की ओर प्रेरित कर के असत् को  नष्ट करती है ! इसलिए  हमें सच्चे भाव से   सदैव माता महागौरी के शरण गत  बनाना चाहिए !

यह भी पढ़े -

नव रात्रा का चौथा दिन कूष्मांडा



नव रात्रा का सातवें दिन काल रात्री


नवरात्र में माता को आज आठवें दिन नारियल का भोग लगाएं !


माता महा गौरी का ध्यान निम्न मंत्रो का उचारण करके किया जाता है - 


वन्दे     वांछित     कामार्थे      चन्द्रार्घकृत     शेखराम् ।

सिंहरूढ़ा    चतुर्भुजा   महा   गौरी        यश    स्वनीम् ॥


पूर्णन्दु  निभां  गौरी सोम चक्रस्थितां अष्टमं महा गौरी त्रिनेत्राम् ।

वरा  भीति   करां   त्रिशूल  डमरू  धरां महा  गौरी    भजेम् ॥


पटाम्बर    परि  धानां मृदु   हास्या नाना  लंकार   भूषिताम् ।

मंजीर,      हार,     केयूर    किंकिणी    रत्न  कुण्डल  मण्डिताम् ॥


प्रफुल्ल  वंदना पल्ल्वा  धरां  कातं  कपोलां  त्रैलोक्य  मोहनम् ।

कमनीया    लावण्यां     मृणांल    चंदन  गंध     लिप्ताम् ॥


माता महा गौरी का पाठ स्तोत्र निम्न मंत्रो का उचारण करके किया जाता है - 


सर्व  संकट   हंत्री   त्वंहि   धन     ऐश्वर्य    प्रदायनीम् ।

ज्ञानदा    चतुर्वेदमयी   महा   गौरी   प्रण  माभ्य   हम् ॥


सुख     शान्ति    दात्री     धन    धान्य    प्रदीयनीम् ।

डमरू  वाद्य  प्रिया  अद्या  महा  गौरी   प्रण  माभ्यहम् ॥


त्रैलोक्य     मंगल     त्वंहि    ताप  त्रय     हारिणीम् ।

वददं   चैतन्य   मयी     महा  गौरी   प्रण   माम्यहम् ॥



माता  महा गौरी  का कवच का मंत्र का उचारण -



ओंकारः   पातु    शीर्षो   मां,    हीं   बीजं   मां,    हृदयो ।

क्लीं   बीजं   सदा   पातु  नभो   गृहो    च   पादयो ॥


ललाटं   कर्णो   हुं   बीजं  पातु महा गौरी मां नेत्रं घ्राणो ।

कपोत   चिबुको  फट्   पातु   स्वाहा   मा सर्व  वदनो ॥


एक बात और भी ध्यान में रखने की है जब कोई भी नव रात्रा के दिनों में व्रत - उपवास करते है ! तो उसको जरूर ही दुर्गा सप्त शती का पाठ करना चाहिए ऐसा करने से बाधाये भी दूर होती है ! अपने घर में सुख - शांति भी बनी रहती है और मनुष्य की मनो कामना भी पूरी होती है ! इस लिए यह सब जानकर जरुर ही दुर्गा सप्त शती का पाठ अवश्य ही करना चाहिए !


आगे अब आपकी बारी यह है की यह पोस्ट आपको कैसी लगी आशा करता हूँ की जरूर ही आपको यह पोस्ट पसंद आई होंगी और अपने दोस्तों के साथ यह पोस्ट शेयर करे व आपके मन में कोई सवाल आता है ! 
तो कोमेंट भी करे !